#cap2 #cap2 #cap2 #cap2
--
धमतरी जिला देवांगन समाज - की ओर से सभी लाभार्थी शुभचिंतक, अग्रज, प्रेरणाश्रोत, सभी देवांगन /कोष्टा जनों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाये, सदैव आपके बेहतर सेवा के लिये तत्पर।

सम्पादक के कलम से

प्रिय स्वजातीय बंधुओं,

जैसा कि हम सभी जानते है कि वर्तमान समय टेक्नोलॉजी का समय है जहाँ सभी लोग अपनी पर्सनल लाइफ में व्यस्त है ! सभी के अपने अपने काम है ! और सभी उन्हें पूरा करने में प्रत्यनशील है !  इन सबके साथ साथ हमारे कुछ साथी भी है ! जैसे मित्र गण,भाई-बंधु और परिवार के सदस्य इत्यादि जो हमारी जिंदगी के लिए बहुत जरूरी है!इनके साथ हम अपनी खुशियां बांटते है! तथा यह हमारे दुःख में भी शामिल रहते है इन सभी से हमारी लाइफ बहुत सरल और आनन्दमय हो जाती है !और इन सभी के साथ एक और बंधन समाज होता है ! समाज साथ एक तरह का परिवार ही है जो हमारे सुख और दुःख में हमारे साथ रहता है!

परन्तु आज के व्यस्तम समय मे अब समाज का महत्व कम होता जा रहा है ! जिसका कारण आज का ग्लोबलाइजेशन है !वर्तमान समय मे लोगों का सीमाक्षेत्र व्यापक हो गया है ! इस व्यापक क्षेत्र में समाज के लिए प्रयाप्त समय निकालना आसान नही रह गया है! समाज का महत्व कम होने का दूसरा प्रमुख कारण संयुक्त रूप से परिवारों का टूटना तथा एकल परिवारों का बढ़ना है ! क्योकि संयुक्त्त परिवारों में घर के बुजुर्ग लोग सामाजिक कार्यो को देखते थे ! और युवा सदस्य परिवार की आर्थिक स्तिथी सभालते थे ! लेकिन आज एकल परिवार में एक इंसान पर आर्थिक और सामाजिक स्तिथी की जिम्मेदारी है ! अतः समाज के लिए पर्याप्त समय निकालना आसान नही है

यदि हम आज के व्यस्तम समय की बात करें तो आज हम हमारे अपने शहर के ही सभी समाज बंधुओं को नही पहचानते ,अन्य शहरों के समाज बंधुओं की बात तो छोड़िये ! चूंकि हम सभी जे यहाँ प्रचीन काल से ही शादी विवाह जैसे महत्वपूर्ण रिश्ते अपनी समाज मे ही तय किये जाते रहे है ! अब समाज के लोगो से ज्यादा जान पहचान तो होती नही , जिसके कारण सामान्यता: लोगो के लिए नए रिश्ते ढूढना आसान नही रह गया है ! जिसके फलस्वरूप शादी विवाह के लिए लोग अपने रिश्तेदारों तथा समाज के वरिष्ठ लोगो पर निर्भर होने लगे है ! हालांकि कुछ समय से इस समस्या से निपटने के लिए समय समय पर परिचय सम्मेलन  का आयोजन किया जाता रहा है ! परन्तु सामन्यतः यहाँ भी कम सफलता ही हाथ लगती है ! क्योंकि 4 घण्टे के परिचय सम्मेलन में कोई कितने अनजान लोगों से जान पहचान कर सकता है ! आज के युवा जो स्वयं आत्मनिर्भर है , को भी अनजान जगह ओर अनजान लोगों से रिश्ता जोड़ना ठीक नही लगता है ! इसलिए बड़े बड़े शहरों में अंतरजातीय विवाह भी तेजी से बढ़ रहे है !और यदि ऐसा कहा चलता रहा तो आने वाले समय मे समाज का महत्व दिनों दिन ओर कम होता जाएगा !  

यदि हमे हमारी समाज के महत्व को बनाये रखना है तो सबसे पहले हमें समाज संगठित करके रखना होगा ! जिसके लिए हमे समय समय पर समाज के लोगो के बीच मिलन समारोह करवाने चाहिए ! जिसका उद्देश्य केवल शादी विवाह कराना न होकर समाज के लोगों के बीच जान पहचान और भाईचार बढ़ाना भी होगा ! जिसमें कल्चरल एक्टिविटी शामिल होना चाहिए !समय समय पर समाज की पत्रिका आदि प्रकशित की जानी चाहिये जिसमे सभी समाज बंधुओं की उपस्थिति हो ! कुछ शहरों में ये उपाय अपनाने भी जाने लगे हैं ! जो सरहानीय पहल है !                       

परन्तु आज जे समय मे ये उपाय सभी शहरों की समाज को संगठित करने में पर्याप्त साबित नही हो पा रहे है ! यदि इंटरनेट की मदद से समाज को संगठित करने के प्रयत्न किए जाए तो हमारी समस्या का समाधान बड़ी आसानी से किया जा सकता है क्योंकि इस नई सदी के व्यस्तम समय मे इंटरनेट ही एकमात्र साधन है जिसकी मदद से हम बिना समय खर्च किये देश के सभी शहरों में समाज बंधुओं से जान पहचान कर सकते है ! इसी उद्देश्य के लिए हमारे देवांगन समाज के द्वारा इंटरनेट पर www.dewangansamaj.com को शुरू किया है क्योंकि इंटरनेट पर हम समाज की वेबसाइट को देश के किसी भी शहर से किसी भी जगह किसी भी समय विजिट कर सकते है या खोल कर देख सकते है ! तथा जिस पर हम अपने घर से ही इंटरनेट पर सभी शहरों के देवांगन समाज के सामाजिक बंधु संपर्क में रह सकते है ! अतः समाज के सभी लोगों को वेबसाइट पर अपने पूरे परिवार के साथ जुड़ना चाहिये ! ताकि आप एवम सभी शहरों के समाज के सदस्य आपस मे संपर्क में रह सके !                       

धन्यवाद                       

संयोजक - आई टी प्रकोष्ठ - जिला देवांगन समाज
खिलेश देवांगन